Sushant Case Investigation: टीम कंगना ने मुम्बई पुलिस और उद्धव ठाकरे को कठघरे में खड़ा किया

सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस के मामले में हाल ही में दिए गए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बयान को लेकर कंगना रनोट उन पर भड़क पारी हैं। कंगना रनोट की ओर से ट्वीट करते हुए कंगना की टीम ने कहा कि दुनिया का बेस्ट सीएम, जिन्होंने मर्डर को 2 मिनट में आत्महत्या बता दिया था, अब वह लोगों से प्रूफ मांग रहे हैं। इससे पहले उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र पुलिस का बचाव करते हुए कहा था कि वह क्षम्य करने योग्य नहीं है।

शानिवार सुबह को इस मुद्दे को लेकर कंगना की टीम ने ट्विटर पर 3 ट्वीट किए। फर्स्ट ट्वीट में लिखा, ‘‘कंगना रनौट को चुप कराने के लिए कई चीजें की जा रही है। राजनीतिक माफिया और फिल्मी माफिया ने इस मर्डर के लिए दोनों ने हाथ मिलाया है। वे अंदाजा लगा रहे हैं कि कंगना रनौट किसी भी चीज से नहीं डरती है, यहां तक कि अपनी मौत से भी नहीं, इसलिए इन्हें छोटी-मोटी चालें चलने की जरूरत नहीं है।’’

टीम कंगना ने मुंबई पुलिस को कठघरे में खड़ा किया

कंगना की टीम ने दूसरे ट्वीट में उद्धव ठाकरे के बयान वाली एक न्यूज़ को शेयर करते हुए लिखा, ‘‘दुनिया का बेस्ट सीएम कह रहा है कि मुझे प्रूफ दो,अब तो ये जनता पर है कि वह उन्हें प्रूफ दे, लेकिन क्राइम साइट को मुम्बई पुलिस ने सील तक नहीं कर सकी और ना ही पुलिस ने जांच के लिए वहां से फिंगर प्रिंट्स या बाल इकट्ठा किए, लेकिन मूवी माफियाओं के बेस्ट मुख्यमंत्री को हमसे सबूत चाहते हैं।’’

सीएम उद्धव ठाकरे ने दो मिनट में सुसाइड बोल कर दिया

तीसरे और लास्ट ट्वीट में कंगना की टीम ने लिखा, ‘‘दोस्त स्मिता और सुशांत के परिवार ने इस बात की पुष्टि की है कि वह बॉलीवुड इंडस्ट्री को छोड़ना चाहते थे। इंडस्ट्री में उनका दम घुटता था और वह काफी डरे हुए थे। सुशांत लगातार कहा करते थे कि वे लोग मुझे मार देंगे और दुनिया के बेस्ट सीएम ने सुशांत की हत्या को 2 मिनट में आत्महत्या घोषित कर दिया और फिल्मी माफिया से जुड़े हुए गिद्धों ने मानसिक बीमारी का अभियान शुरू कर दिया।’’

महाराष्ट्र के CM उद्धव ने कहा था- किसी के पास अगर सबूत हैं तो हमें दें

न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, इससे पहले सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा था, ‘‘महाराष्ट्र पुलिस असमर्थ नहीं है। अगर किसी के पास कोई प्रूफ है तो वे उसे मेरे पास ला सकते हैं और हम पूछताछ करेंगे और दोषियों को सजा भी देंगे। कृपया इस मुद्दे का उपयोग बिहार और महारष्ट्र के बीच दरार डालने के लिए एक बहाने के रूप में न करें।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *