Sonu sood job portal: सब्ज़ी बेच रही सॉफ्टवेयर इंजीनियर को सोनू ने दिलाया जॉब!

सोनू सूद लॉकडाउन में फसे प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने का काम कर मसीहा बने और अब सोनू सूद लोगों को नौकरी दिलवाने का काम कर लोगो की मदद भी कर रहे हैं। हाल ही में सोनू को ट्वीट कर एक ट्विटर यूजर ने एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की मदद करने की गुहार लगाई थी। सोनू ने उस ट्विटर यूजर को नाराज नहीं किया और उसे रिप्लाई करते हुए उनकी मुश्किल भी सॉल्व कर दी।

Pic credit: Sonu sood Instagram

नौकरी जाने पर सब्जी बेच रही थी इंजीनियर

शारदा नाम की एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर का वीडियो उस ट्विटर यूजर ने शेयर किया। कोरोना वायरस लॉकडाउन के दौरान शारदा को उसकी कंपनी ने निकाल दिया और शारदा बेरोजगार हो गईं। शारदा हार न मानते हुए ने अपने घर-परिवार का पालन-पोषण करने के लिए शारदा ने सब्जी बेचना स्टार्ट कर दिया। सोनू सूद से शारदा को फिर से नौकरी दिलवाने में मदद के लिए उस ट्विटर यूजर ने गुहार लगाई और लिखा, सर प्लीज देखिए कि शारदा की क्या हरसंभव मदद की जा सकती है। उम्मीद है आप जवाब देंगे।

सोनू ने लगवा दी जॉब

यूजर को सोनू सूद ने निराश नहीं किया और शारदा की फिर से नौकरी लगवा दी। सोनू ने ट्विटर यूजर की ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा, शारदा को मेरी ऑफिशियल टीम मिल चुकी है। और साइन ने यह भी लिखा कि इंटरव्यू हो गया है। जॉब लेटर भी भेज दिया गया है। जय हिंद।

प्रवासी मजदूरों के लिए लॉन्च किया ऐप

दूसरी ओर, सोनू प्रवासी मजदूरों को अपने-अपने घरों तक सुरक्षित पहुंचाने के बाद अब प्रवासी मजदूरों को नौकरी दिलाने में भी मदद करेंगे। इसके लिए सोनू सूद ने ‘प्रवासी रोजगार’ नाम से एक प्लेटफॉर्म स्टार्ट किया है। जो की प्रवासि मजदूरों को नौकरी खोजने के लिए जरूरी जानकारी और सही लिंक मुहैया कराएगा।इस प्लेटफार्म की जानकारी सोनू सूद ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर की है।

सोनू सूद ने कहा

इस पहल को स्टार्ट करने के लिए लास्ट कुछ महीनों से मैंने सोचा और फिर कैसे करना है इसका प्लान तैयार किया। इंडिया के टॉप संगठन के साथ इस मैटर पर बातचीत किया है गरीबी रेखा से नीचे वाले लोगो के युवाओं को रखने के लिए तैयार हैं। वे सोशल ऑर्गनाइजेशन, एनजीओ, गवर्नमेंट ऑफिशियल्स के साथ स्टार्ट अप हैं। सोनू सूद आगे कहते हैं, ‘ 6 करोड़ से अधिक देश में, अंतरराज्यीय प्रवासी श्रमिक हैं, इसमें से करीब 3 करोड़ मजदूर हैं और बस कुछ ही वक़्त में इस ऐप पर लगभग 1 करोड़ लोग आ जाएंगे।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *